छत्तीसगढ़ का इतिहास

छत्तीसगढ़ का इतिहास

प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास

प्राचीन काल में इस क्षेत्र को दक्षिण कोसल के नाम से जाना जाता था। इस क्षेत्र का उल्लेख रामायण और महाभारत में भी मिलता है। छठी और बारहवीं शताब्दी के बीच, इस क्षेत्र में शरभपुरिया, पांडुवंशी, सोमवंशी, कलचुरी और नागवंशी शासकों का प्रभुत्व था। छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र पर 11वीं शताब्दी में चोल वंश के राजेंद्र चोल प्रथम और कुलोथुंगा चोल प्रथम ने आक्रमण किया था।

औपनिवेशिक और स्वतंत्रता के बाद का इतिहास

छत्तीसगढ़ 1741 से 1845 ई. तक मराठा शासन (नागपुर के भोंसले) के अधीन था। यह 1845 से 1947 तक मध्य प्रांत के छत्तीसगढ़ डिवीजन के रूप में ब्रिटिश शासन के अधीन आया। 1845 में अंग्रेजों के आगमन के साथ रायपुर ने राजधानी रतनपुर पर प्रमुखता प्राप्त की। 1905 में, संबलपुर जिले को ओडिशा में स्थानांतरित कर दिया गया और सरगुजा की संपत्ति को बंगाल से छत्तीसगढ़ में स्थानांतरित कर दिया गया।

नए राज्य का गठन करने वाला क्षेत्र 1 नवंबर 1956 को राज्य पुनर्गठन अधिनियम, 1956 के तहत विलय कर दिया गया और 44 वर्षों तक उस राज्य का हिस्सा बना रहा। मध्य प्रदेश के नए राज्य का हिस्सा बनने से पहले, यह क्षेत्र पुराने मध्य प्रदेश राज्य का हिस्सा था, जिसकी राजधानी नागपुर थी। इससे पहले, यह क्षेत्र ब्रिटिश शासन के तहत मध्य प्रांत और बरार (सीपी और बरार) का हिस्सा था। छत्तीसगढ़ राज्य का गठन करने वाले कुछ क्षेत्र ब्रिटिश शासन के अधीन रियासतें थे, लेकिन बाद में उन्हें मध्य प्रदेश में मिला दिया गया।

छत्तीसगढ़ का विभाजन

नया रायपुर में मंत्रालय

वर्तमान छत्तीसगढ़ राज्य को 1 नवंबर 2000 को मध्य प्रदेश से अलग कर बनाया गया था।[5][6] अलग राज्य की मांग पहली बार 1920 के दशक में उठाई गई थी। इसी तरह की मांगें नियमित अंतराल पर उठती रहीं; हालाँकि, एक सुव्यवस्थित आंदोलन कभी शुरू नहीं किया गया था। कई सर्वदलीय मंच बनाए गए और वे आम तौर पर याचिकाओं, जनसभाओं, सेमिनारों, रैलियों और हड़तालों के इर्द-गिर्द सुलझाए जाते थे।[21] 1924 में रायपुर कांग्रेस इकाई द्वारा अलग छत्तीसगढ़ की मांग उठाई गई और त्रिपुरी में भारतीय कांग्रेस के वार्षिक सत्र में भी चर्चा की गई। छत्तीसगढ़ के लिए क्षेत्रीय कांग्रेस संगठन बनाने पर भी चर्चा हुई। 1954 में जब राज्य पुनर्गठन आयोग का गठन हुआ, तब अलग छत्तीसगढ़ की मांग रखी गई, लेकिन इसे स्वीकार नहीं किया गया। 1955 में तत्कालीन मध्य भारत राज्य की नागपुर विधानसभा में एक अलग राज्य की मांग उठाई गई थी।[21]

1990 के दशक में नए राज्य की मांग के लिए और अधिक गतिविधि देखी गई, जैसे कि एक राज्यव्यापी राजनीतिक मंच का गठन, विशेष रूप से छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण मंच। चंदूलाल चद्रकर ने इस मंच का नेतृत्व किया, मंच के बैनर तले कई सफल क्षेत्र-व्यापी हड़तालें और रैलियाँ आयोजित की गईं, जिनमें से सभी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी सहित प्रमुख राजनीतिक दलों का समर्थन प्राप्त था।

नई राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार ने मध्य प्रदेश विधानसभा की मंजूरी के लिए अलग छत्तीसगढ़ विधेयक भेजा, जहां इसे एक बार फिर सर्वसम्मति से मंजूरी दी गई और फिर इसे लोकसभा में पेश किया गया। अलग छत्तीसगढ़ के लिए यह बिल लोकसभा और राज्यसभा में पारित हो गया, जिससे अलग छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ। भारत के राष्ट्रपति ने 25 अगस्त 2000 को मध्य प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम 2000 को अपनी सहमति दी। भारत सरकार ने बाद में 1 नवंबर 2000 को उस दिन के रूप में निर्धारित किया, जिस दिन मध्य प्रदेश राज्य को छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में विभाजित किया जाएगा।

Translation types

Text translation

Source text

chhatteesagadh gyaan:

chhatteesagadh ka itihaas – chhatteesagadh ka itihaas namaskaar chhatteesagadh 3-4 minat chhatteesagadh ka praacheen naam dakshinee kaushal jo chhattees (36) gadhon ko samaahit mein “chhatteesagadh” ban gaya. theek hed hee, jaise magadh jo bauddhon kee adhikata ke “bihaar” ban gae. chhatteesagadh mein meghavanshee (vistrt) bhanavansh, raajaratee kul, vrhadvivaarak vansh, vansh, sharabhapuree vansh, paandu vansh, somavansh – sirapur, kaaktvak aur paanduvanshee vansh – mailaikno ne tantrika tantr tha. kaileeriya prabandhan mein gadhane vaalee misailen. chhatteesagadh 36. chhatteesagadh mein kalkiy kee do shaakhaen. “chhatteesagadh” aur mausam se hee vividh hai. is kshetr ka viraasat hai jaise raamaayan aur mahaabhaarat mein bhee. vaishnav, shaiv, shaakt, bauddh ke saath hee vividh kaalo mein prabhaavee. mahatv: praacheen kaal mein dakshinee koshal ka kat pashchim mein tripuree se poorv mein udane vaale sambalapur aur kaalaahandee tak tha. kaalakshetr mein koshal thaan, jo kaalaantar mein do vibhakt ho gaya – uttar koshal aur dakshinee koshal, aur dakshinee koshal. kaal mein is kshetr ka ek praacheen kaal tha. vistrt maasapuraan, vaalmeeki raamaayan aur mahaabhaarat ke bheeshm parv mein varnan hai – “mandaakineedashaarn ch chitrakoota tavaav ch. tamasa pippaleeshyenee aur chitrotpalaapi ch. maasapuraan – bhaaratavarsh ka vivaran prakaran – 50/25 “chitrotpala” chitrathaan manjulaan vaahinee aur. mandaakinning vaitaring – mahaabhaarat – bheeshmaparv – 9/34 “chitrotpala vetravapee karamoda pisha. nyaatilaghushronee vipaaya aur shevala nadee. brahmapuraan – bhaaratavarsh ka vivaran prakaran – 19/31 vaalmeeki raamaayan mein aisa karane ke lie upayukt the. raam ne apane vanavaas ka samay is kshetr mein aaya tha. dandakaarany naam se charchit vanaachchhaadit praant kaal mein bhaarateey sanskrti ka vigyaan tha. ekaant mein rahane vaale vyakti. vaalmeeki, atri, agasty, suteekshn pramukh the. bauddh aur jain: bauddh dharm angujanar nikaay aur srshti bhagavatee sumit mein 18. kosal dono dakshin aur uttar mein uchit. anekon paathon ne is prakaar se likha hai : chhatteesagadhee gaatha yug – 1000 – 1500 ee. chhatteesagadhee dvibhaashee ya madhy kaal, san 1500- 1900 ee. chhatteesagadhee aadhunik yug – san 1900 ee. se aaj tak

Show more

1,908 / 5,000

Translation results

Chhattisgarh Knowledge: History of Chhattisgarh – History of Chhattisgarh

hello chhattisgarh

3-4 minutes

The ancient name of Chhattisgarh became “Chhattisgarh” in ‘Dakshin Kaushal’ which contained thirty-six (36) bastions. It is the head itself, such as Magadha who became the “Bihar” of the abundance of Buddhists.

In Chhattisgarh, Meghavanshi (extensive) Bhanvansh, Rajrati clan, Brihadwivarak dynasty, Vansh, Sharabpuri dynasty, Pandu dynasty, Somvansh – Sirpur, Kaktvak and Panduvanshi dynasty – Mylacno had the nervous system. Forged missiles in caliuria management. Chhattisgarh 36. Two branches of Kalkiya in Chhattisgarh.

“Chhattisgarh” and varied by season itself. There is a heritage of this region like in ‘Ramayana’ and ‘Mahabharata’ also.

Effective in Vaishnava, Shaiva, Shakta, Buddhist as well as in various times.

Significance Importance:

In ancient times the cut of Dakshin Kosala was from Tripuri in the west to Sambalpur and Kalahandi flying in the east. The ‘Kosala’ place in the time zone, which later got divided into two – ‘Uttar Kosala’ and ‘Dakshin Kosala’, and ‘Dakshin Kosala’.

The region had a long ancient period in the period. There is a description in the detailed Maspuran, Valmiki Ramayana and Bhishma Parva of Mahabharata –

“Mandakinidasharna f Chitrakoota Tawav Ch.

Tamasa Pippalisheni and Chitrotpalapi Ch.

Maspuran – Details of Bharatvarsha Case – 50/25

“Chitotpala” Chitrathan Manjulan Vahini and.

Mandakining Waiting

– Mahabharata – Bhishmaparva – 9/34

“Chitotpala Vetravapi Karmoda Pisha.

Nyatilaghushroni Vipaya and Shevla river.

Brahmapuran – Details of Bharatvarsha Case – 19/31

Valmiki was apt to do so in the Ramayana. Rama came to this area during his exile.

There was a science of Indian culture in the forest covered province known as Dandakaranya. Solitary person. Valmiki, Atri, Agastya, Sutikshna were prominent.

Buddhists and Jains:

In Buddhism ‘Angujanara Nikaya’ and Srishti ‘Bhagwati Sumit’ 18. ‘Kosala’ proper in both the south and the north.

Many texts have written like this:

Chhattisgarhi saga era – 1000 – 1500 AD.

Chhattisgarhi bilingual or medieval period, 1500 – 1900 AD.

Chhattisgarhi Modern Age – 1900 AD to the present day

More about this source text

Source text required for additional translation information

Send feedback

Side panels

One thought on “छत्तीसगढ़ का इतिहास”

Leave a Reply

Your email address will not be published.