COMPUTER


एप्लाईड एवं व्यवहारिक विज्ञान
भारत में वर्तमान में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का विकास

  1. अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में 0 अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में 1969 में इसरों की स्थापना हुई।
    भारत ने अंतरिक्ष में अनेक संचार उपग्रह, भू – प्रेक्षण एवं द्वरसंवेदी उपग्रह भेजे हैं। अपने प्रथम प्रयास में मंगल में पहुंचने वाला विश्व का प्रथम देश हैं।
  2. रक्षा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में
    01958 में DRDO की स्थापना की गई। 01983 में समन्वित निर्देशित प्रक्षेपास्त्र विकास कार्यक्रम प्रारंभ किया गया जिसमें त्रिशुल, आकाश, पृथ्वी, नाग, अग्नि मिसाइ
    निर्माण शामिल हैं। ० ब्रम्होस – भारत तथा रूस का संयुक्त मिसाइल।
  3. चिकित्सा के क्षेत्र में
    ० भारत परमाणु ऊर्जा का उपयोग कैंसर, ट्यूमर, घंघारोग, अस्थि रोग के ईलाज में कर रहा। ० भारत जेनेरिक दवाओं के सबसे बड़े उत्पादकों में शामिल हैं।
  4. सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में
    ० विश्व के सर्वाधिक इंटरनेट उपयोगकर्ता भारत में हैं। ० द्वरस्थ क्षेत्रों तक इंटरनेट की पहुंच हैं। ० भारत शिक्षा, कृषि, प्रशासन, व्यापार आदि में सूचना प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर रहा।
  5. परमाणु ऊर्जा
    9 भारत परमाणु शक्ति संपन्न देश हैं। इसने 1998 में सफलता पूर्वक परमाणु परीक्षण किया। ० चिकित्सा, कृषि, विद्युत उत्पादन आदि क्षेत्रों में परमाणु ऊर्जा का उपयोग किया जा रहा हैं।
    O ISC
  6. विज्ञान अनुसंधान के लिए बड़े केन्द्र O IIT’S
    O BARC
    O ISRO 7. कृषि
    ICAR ने कृषि की नवीन प्रौद्योगिकी विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं। भरत क्राति, श्वेत क्रांति. नीली क्रांति आदि में प्रौद्योगिकी की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published.