WEB DESIGN

पृष्ठभूमि
राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा, 2005 में सिफारिश की गई है कि विद्यालयों में बच्चों के जीवन को विद्यालय के बाहरी जीवन के साथ जोड़ना अनिवार्य है। इस सिद्धांत के अनुसार किताबी अध्ययन की परंपरा छोड़ देनी चाहिए जो हमारे तंत्र को लगातार एक आकार देती आई है और विद्यालय, घर, समुदाय और कार्यस्थल के बीच अंतराल लाती है। “वेब डिजाइनिंग भाग और डेवलपमेंट” पर यह छात्र कार्य पुस्तिका मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी), भारत सरकार के एक प्रयास, राष्ट्रीय व्यावसायिक शिक्षा योग्यता रूपरेखा (एनवीईक्यूएफ) के कार्यान्वयन हेतु विकसित अर्हता पैकेज का भाग है, जिसमें विद्यालयों, व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थानों, तकनीकी शिक्षा संस्थानों, महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों में अपनाई जाने वाली राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त अर्हता प्रणाली के लिए सामान्य सिद्धांत और दिशा निर्देश तय किए जाते हैं। यह संकल्पना की गई है कि एनवीईक्यूएफ से अर्हताओं की पारदर्शिता, विषम क्षेत्रीय अधिगम, छात्र केंद्रित अधिगम और छात्र को विभिन्न अर्हताओं के बीच चलनशीलता की सुविधा को बढ़ावा मिलेगा और इस प्रकार जीवन भर अधिगम को प्रोत्साहन मिलता रहेगा।
यह छात्र कार्यपुस्तिका, जो कक्षा 10 या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों के लिए व्यावसायिक अर्हता पैकेज का एक भाग है, इसे विशेषज्ञों के एक समूह द्वारा बनाया गया था। आईटी – आईटीईएस उद्योग के लिए राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) द्वारा अनुमोदित आईटी – आईटीईएस कौशल विकास परिषद द्वारा राष्ट्रीय व्यावसायिक मानक (एनओएस) का विकास किया गया। राष्ट्रीय व्यावसायिक मानक प्रतिस्पर्धा मानकों और दिशानिर्देशों का एक सेट है जिसे कार्य स्थल में प्रभावी निष्पादन के लिए आवश्यक कौशलों तथा ज्ञान के आकलन एवं मान्यता देने हेतु आईटी उद्योग के प्रतिनिधियों द्वारा पृष्ठांकित किया गया है।
पं. सुंदरलाल शर्मा केंद्रीय व्यावसायिक शिक्षा संस्थान (पीएसएससीआईवीई), राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान
और प्रशिक्षण परिषद् (एनसीईआरटी) ने वाधवानी फाउंडेशन के साथ मिलकर एनवीईक्यू के लिए स्तर 1 से 4 तक आईटी – आईटीईएस क्षेत्र में व्यावसायिक अर्हता पैकेज के लिए मॉड्यूलर पाठ्यचर्या और अधिगम सामग्रियों (इकाइयों) का विकास किया है, स्तर 1 कक्षा 9 के समकक्ष है। एनओएस के आधार पर मूल दक्षताओं (ज्ञान, कौशल और क्षमताएं) से संबंधित व्यावसाय को पाठ्यचर्या तथा अधिगम मॉड्यूल (इकाइयों) के विकास के लिए अभिज्ञात किया गया था। इस छात्र कार्य पुस्तिका में प्रस्तावित पाठ्यक्रमों की अनिवार्य नम्यता, विभिन्न विषय क्षेत्रों के बीच स्पष्ट सीमा रेखाओं को तोड़ने के लिए अनिवार्य माने गए अधिगम के रटने के पुराने तरीके को निरुत्साहित करने का प्रयास किया गया है। इस कार्य पुस्तिका में पूर्णता और आस पास नजर दौड़ाने के अवसरों, छोटे समूहों में चर्चा तथा स्वयं करने के अनुभव की आवश्यकता वाली गतिविधियों को स्थान तथा उच्च

प्राथमिकता देकर इन प्रयासों को संवर्धित करने का प्रयास किया गया है। हमें आशा है कि इन साधनों से हम राष्ट्रीय शिक्षा नीति (1986) में बताई गई बाल केंद्रित शिक्षा प्रणाली की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठा सकेंगे। इस प्रयास की सफलता उन कदमों पर निर्भर करती है जो विद्यालयों के प्रधानाचार्य और अध्यापक अपने अधिगम को दर्शाने तथा काल्पनिक और कार्य के दौरान की जाने वाली गतिविधियों तथा प्रश्नों को आगे बढ़ाने के लिए अपने बच्चों को प्रोत्साहन देने के लिए उठाएंगे।
कौशल विकास अभ्यासों और मान्यताओं एवं रचनात्मकता के पोषण में छात्रों की भागीदारी तभी संभव है यदि हम अधिगम में बच्चों को भागीदार के रूप में शामिल करें और वे मात्र सूचना के ग्राही नहीं बनें। ये लक्ष्य विद्यालय की दैनिक दिनचर्या तथा कार्यशैली में पर्याप्त बदलाव लाते हैं। प्रतिदिन की समय तालिका में नम्यता गतिविधियों के कार्यान्वयन में सक्रियता बनाए रखने के लिए अनिवार्य होगी और अध्यापन और प्रशिक्षण के लिए अध्ययन दिवसों की आवश्यक संख्या को बढ़ाया जाएगा।
आभार
निम्नलिखित भागीदारों ने सामग्री उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी : 1. एक्सेंशर इंडिया कॉर्पोरेट सिटिजन प्रोग्राम (स्किल फॉर लाइफ) ने अंग्रेजी विषय के लिए
सामग्री प्रदान की है, जिसका उन्होंने विकास किया और अपने कार्यान्वयन भागीदारों (डॉ.
रेड्डीज़ फाउंडेशन और क्वेस्ट एलाइंस) को अधिगम्यता प्रदान की है। 2. वाधवानी फाउंडेशन का दल इस पाठ्यचर्या की डिजाइनिंग और निर्मिति में शामिल रहा और विषय वस्तु पर सुश्री सोनिया कक्कड़, श्री कार्तिक चंद्र, श्री टोरल वीकूमसी, सुश्री रेखा मेनन,
श्री अजय गोयल और श्री ऑस्टिन थॉमस ने कार्य किया। 3. पीएसएससीआईवीई का दल मार्गदर्शन और सामग्री के संपादन में शामिल था। 4. इसके अलावा सभी मॉड्यूलों की सामग्री और चित्रों का सृजन करने के लिए विभिन्न
सार्वजनिक डोमेन स्रोतों का उपयोग किया गया है। इन सभी स्रोतों के योगदान को आभारपूर्वक स्वीकार किया गया और मान्यता दी गई है।

वेब डिजाइन और डेवलपमेंट
परिचय
इस सत्र के अंत में, आप यह करने में सक्षम होंगे :
• web authoring tools के उद्देश्यों को समझना। • Expression Web के उद्देश्य को समझना। • Microsoft Expression Web user interface को समझना।
संगत ज्ञान
आपने web page को create करने के लिए HTML और css का उपयोग करना सीखा होगा। आपको पता है कि एक व्यावसायिक रूप वाली वेबसाइट डिजाइन करने के लिए आपको हजारों कोड लिखने की जरूरत होती है, जिससे गलतियों की बहुत अधिक संभावना हो जाती है। आप बहुत अच्छी तरह इसकी कल्पना कर सकते हैं कि अनेक हाइपरलिंक, इमेज, मल्टीमीडिया सामग्री आदि सहित एक वेबसाइट बनाने के लिए हजारों की संख्या में कोड लिखना किसी भी डेवलपर के लिए बहुत कठिन कार्य है, जो मानक वेबसाइट सामग्री के अलावा होता है। इस समस्या के समाधान के रूप में आप एक web authoring tool का उपयोग कर सकते हैं।
Web authoring tools अपने web page डेवलपमेंट टास्क को आसान बनाते हैं। HTML editors जिन्हें web authoring tools के रूप में संदर्भित किया जाता है, वे एप्लिकेशन होते हैं जो आपके लिए HTML कोड लिखते हैं और चेक करते हैं और आपका समय और प्रयास बचाने में मदद करते हैं।
HTML editors को WYSIWYG editors के रूप में (जो आप देखते है वो आपको मिलता है) संदर्भित किया जाता है। इसका कारण यह तथ्य है कि आप डिजाइन फेज के दौरान जो कुछ देखते हैं, वही एक वेब browser (या कम से कम इसके नजदीक) में एक आउटपुट के रूप में देखा जाता है। आम तौर पर, वेबसाइटों को HTML editors का उपयोग करते हुए पहले ऑफलाइन डिजाइन किया जाता है, इसके बाद परखा जाता है तथा फिर वेबसाइट पर अपलोड किया जाता है।
कुछ लोकप्रिय HTML editors में Amaya, Adobe Dreamweaver, Kompozer, Microsoft Expression Web, आदि शामिल हैं। कुछ web hosting provider वेबसाइटों को डिजाइन करने के लिए ऑनलाइन टूल्स प्रदान करते हैं लेकिन इसमें आम तौर पर high-speed Internet connection की जरूरत होती है।
HTML editors द्वारा प्रदान किए गए फायदे इस प्रकार हैं :

Generate Standard Compliant Code : डेवलपर को चिंता करने की जरूरत नहीं है लिखित कोड मानकों के अनुरूप हो या नहीं जैसे HTML 5, CSS3 आदि। एडिटर मानकों को ध्यान रखता है।
• HTML और CSS Validation : सुनिश्चित करने के लिए code की प्रत्येक और हर लाइन चेक
की जाती है कि यह त्रुटियां और / या मानक अनुरूप से मुक्त है।
Generate Compatibility Reports : editor अलग browsers के कई versions के साथ संगतता के आधार पर रिपोर्ट तैयार करता है।
Spell Check : editor word processing software D HH content # spelling on गलतियों को चेक करता है।
Optimize HTML : editor अनावश्यक code को “clean” करता है जिसके फलस्वरूप छोटे web page size web page तेजी से डाउनलोड किए जाते हैं।
मल्टी रिज़ोल्यूशन / ब्राउज़र व्यूज़ : एडिटर आपके web page /विविध स्क्रीन रिजोल्यूशंज़/साइजेज़ (स्मार्ट फोन, नेट बुक इत्यादि) में वेबसाइट और विविध browsers (Mozilla Firefox, Google Chrome इत्यादि) की भी ऑटोमेटिकली जांच करता है।
एसईओ (सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) : editor आपके web page को इस प्रकार तैयार करता है कि search engines इसे समझ सकता है और इस प्रकार आपकी वेबसाइट को search results के लिए बेहतर रैंकिंग प्राप्त करने में आपकी वेबसाइट की सहायता करता है।
Add-ons के लिए सहयोग : editors 3rd party add-ons में सहयोग करते हैं इससे HTML editor की अतिरिक्त क्षमताओं में वृद्धि होती है। मल्टीपल पब्लिशिंग विधियां : Editors में आपकी वेबसाइट को remote computers पर पब्लिश करने के लिए FTP, WebDAV आदि जैसे विभिन्न विकल्पों का प्रयोग करने की क्षमता होती है।
Microsoft Expression वेब
Microsoft Expression Web का एक मुफ्त HTML एडिटर्स है और web design software इसके प्रोडक्ट Microsoft ने बनाए हैं। MEW का एक सबसे बड़ा लाभ यह है कि इससे HTML, XML, CSS, ASP.NET, XHTML, PHP और JavaScript का उपयोग करते हुए web page बनाए जा सकते हैं और उनका प्रबंधन किया जा सकता है।
टिप्पणी : यह मॉड्यूल HTML का उपयोग करते हुए केवल Microsoft Expression web पर फोकस करता है।
Microsoft Expression Web को इंस्टॉल करना

Leave a Reply

Your email address will not be published.